Virtual/Future Classrooms आभासी / भविष्य कक्षाएं Print प्रिंट

Features
  • Digital Podium, Projection System, Multimedia, Cameras
  • Acoustics, Media and Bandwidth
  • SMART Classrooms with or without Green Solution (Blended/Non blended)
  • Integrated Projector, Interactive Board, Multi-media systems
  • Tool for Teachers-Students (Laptop/Tablet)
The main objective of the Virtual classroom project is to find and create a best practice standard for implementing modern, academic curricula in an international, multidisciplinary university setting.
Virtual MOOCs:

MOOC stands for a Massive Open Online Course.

It is an online course aimed at large-scale participation and open (free) access via the internet. They are similar to university courses, but do not tend to offer academic credit.

This cost effective way of learning through online medium definitely possess a bright future in India as Government doesn't have to spend money on the construction of schools and colleges, students do not have to travel up to long distances, no faculty will be needed .One only needs to get a laptop or desktop or mobile and an internet connection and they are all set to go!

In a developing country like India where the major part of population resides in rural areas and people can't afford to get quality education, MOOCS can be definitely considered as a game changer.

विशेषताएँ
  • डिजिटल पोडियम, प्रोजेक्शन सिस्टम, मल्टीमीडिया, कैमरा
  • अकूस्टिक्स, मीडिया और बैंडविड्थ
  • ग्रीन सॉल्यूशन के साथ या उसके बिना स्मार्ट क्लासरूम (मिश्रित / गैर मिश्रित)
  • एकीकृत प्रोजेक्टर, इंटरैक्टिव बोर्ड, मल्टी मीडिया सिस्टम
  • शिक्षक-छात्र के लिए उपकरण (लैपटॉप / टैबलेट)
वर्चुअल कक्षा प्रोजेक्ट का मुख्य उद्देश्य एक अंतरराष्ट्रीय, बहुआयामी विश्वविद्यालय की व्यवस्था में आधुनिक, शैक्षिक पाठ्यक्रम को लागू करने के लिए सर्वोत्तम अभ्यास मानकों की खोज करना और निर्माण करना है।
वर्चुअल एमओओसीएस:

एमओओसी का तात्पर्य विशाल ओपन ऑनलाइन कोर्स से है।

यह एक ऑनलाइन पाठ्यक्रम है, जिसका उद्देश्य इंटरनेट के माध्यम से विशाल पैमाने पर भागीदारी और खुले (नि:शुल्क) पहुंच प्रदान करना है। वे सभी विश्वविद्यालय के पाठ्यक्रमों के समान हैं, लेकिन शैक्षणिक क्रेडिट की पेशकश नहीं करते हैं।

ऑनलाइन माध्यम के माध्यम से सीखने की इस किफ़ायती विधि का निश्चित रूप से भारत में उज्ज्वल भविष्य है क्योंकि सरकार को स्कूलों और कॉलेजों के निर्माण पर राशि व्यय नहीं करनी होती है, छात्रों को लंबी दूरी की यात्रा नहीं करनी पड़ती है, और इसके लिए किसी भी फैकल्टी की आवश्यकता नहीं होती है। सीखने के लिए केवल एक लैपटॉप या डेस्कटॉप या मोबाइल और एक इंटरनेट कनेक्शन की आवश्यकता है और वे सभी सीखने के लिए तैयार हैं!

भारत जैसे एक विकासशील देश में जहाँ जनसंख्या का अधिकांश हिस्सा ग्रामीण क्षेत्रों में निवास करती है और लोग गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त करने का खर्च नहीं वहन कर सकते है, एमओओसीएस निश्चित रूप से क्रांतिकारी भूमिका अदा कर सकता है।

Latest News : नवीनतम समाचार: